11 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या

हरिद्वार की एक कॉलोनी से गायब हुई के एक ठेकेदार की 11 साल की मासूम बेटी रविवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे घर के बाहर से गायब हो गई थी। बच्ची के काफी देर तक घर नहीं लौटने पर घर वालो ने चिंतित होकर आस पड़ोस के घर खोजबीन की, कुछ ना पता चलने पर परिवार वालो ने बिना समय बर्बाद करते हुए पुलिस को सूचित करना उचित समझा। पुलिस ने आसपास के घरों में लगे सीसीटीवी कैमरे तलाशे, लेकिन उनमें बच्ची के कॉलोनी से बाहर जाने की कोई फुटेज नहीं मिली। इसके बाद पुलिस ने बच्ची के परिजनों और कॉलोनी के लोगों के साथ आसपास के घरों की तलाशी ली। प्रॉपर्टी डीलर और कपड़े के थोक व्यापारी के मकान से देर रात बच्ची का शव बरामद किया गया था।
हरिद्वार की एक कॉलोनी से रविवार को गायब हुई मासूम बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला सामने आया है। पुलिस ने दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या के आरोप में भवन स्वामी मामा और उसके भांजे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने भांजे को गिरफ्तार कर लिया, जबकि मामा अभी पकड़ से बाहर है। घटना के कई घंटो बाद भी आरोपी (मामा) की गिरफ्तारी नहीं होने पर सोमवार को लोगों का गुस्सा एक बार फिर फूट पड़ा।

कॉलोनी के लोगो ने दिखाया गुस्सा।
बच्ची के साथ हुई घटना के बाद कॉलोनी के लोग रविवार रात को सोये नहीं और सोमवार को भी मातम पसरा रहा। लोगों के चेहरे पर गुस्सा साफ नजर आ रहा था। लोग आरोपियों को मौके पर सजा देने को उतारू थे और इसके लिए वह कुछ भी कर गुजरने  को तैयार थे।

आगे पढ़े सेना भर्ती: रैली में शामिल होने के लिए 46,000 युवाओं ने दिखाया’ उत्साह

मोके पर पोहचे एसएसपी
कॉलोनी के लोगों ने आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर ऋषिकुल के पास मुख्य रोड पर जाम लगा दिया। मौके पर पहुंचे एसएसपी ने लोगों को किसी तरह से समझाबुझाकर जाम खुलाया। लोगों को इस बात को लेकर रोष था कि पूरा दिन गुजरने के बाद भी पुलिस आरोपी राजीव कुमार को गिरफ्तार नहीं कर सकी।
लोगों ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जाम की सूचना मिलते ही पुलिस में हड़कंप मच गया। मौके पर कई अधिकारी पहुंचे और लोगों को समझाने की कोशिश की। लोग जाम खोलने को तैयार नहीं हुए। इसके बाद एसएसपी सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस मौके पर पहुंच और लोगों को आरोपी की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वास दिया। इसके बाद ही लोग जाम खोलने को तैयार हुए।
सोमवार को पुलिस ने मासूम के शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिजनों को सौंपा। परिजनों को शव मिलते ही सभी लोग बिलख पड़े। कॉलोनी भी गमगीन माहौल में डूब गई। अपराह्न में मासूम का कनखल के श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस दौरान हर किसी की आंखें नम थीं।

आगे पढ़े क्या अंगीठी से भी हो सकती है मौत ?

Related posts

Leave a Comment