क्या हें गोलू देवता की कहानी | Story of Golu Devta

गोलू देवता

कहा जाता हैं कि गोलू देवता, कत्यूरी राजवंश के राजा झालुराई की इकलौती संतान थे। राजा झालुराई एक न्यायप्रिय, दयालु और तेजस्वी राजा थे। राजा झालुराई की सात पत्नियाॅं थी लेकिन राजा को पुत्र रत्न की प्राप्ति किसी से भी नहीं थी। इस विचार से कि उनका वंश आगे को कौन बढाएगा राजा काफी चिंतित रहता था। इस बात से चिंतित होकर राजा ने भगवान भैरव की घोर तपस्या करी जिससे भगवान ने उनको पुत्र रत्न प्राप्ति का वरदान दिया और कहा कि तुम्हारी आठवीं पत्नि के गर्भ से मैं…

Read More

चितई गोलू देवता मन्दिर : न्याय का मंदिर

Chitai Golu Temple

चितई गोलू देवता मन्दिर देवभूमि उत्तराखंड धार्मिक स्थलों के लिए विशेष रूप से जाना जाता है इन धार्मिक स्थलों की लोकप्रियता विदेशो तक मशहूर है । आज हम आपको एक ऐसे ही धार्मिक स्थल के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको न्याय का देवता भी कहा जाता है। यह धार्मिक स्थल अल्मोड़ा जिले में स्थित चितई गोलू देवता का मंदिर है। इस मंदिर परिसर में भक्तों की भीड़ , लगातार गुंजती घंटों की आवाज और यहां पर लगी अनगिनत चिठियों से ही गोलू देवता की लोक प्रियता का अंदाजा…

Read More