उत्तराखंड में हिन्दू युवा वाहिनी ने लगाया बैनर, “गैर हिंदुओं का मंदिर में प्रवेश वर्जित”

non hindu prohibited in temple of Uttarakhand

गैर हिन्दू मंदिर में प्रवेश वर्जित : उत्तराखंड के देहरादून जिले में “गैर हिंदुओं” के मंदिर में प्रवेश को प्रतिबंधित करने के लिए लगभग 150 मंदिरों के बाहर बैनर लगा दिए गए हैं। बता दें कि यूपी के गाजियाबाद में डासना देवी मंदिर के बाहर भी इस तरह का बैनर पहले लगाया गया था। गैर हिंदू का मंदिर में प्रवेश वर्जित वाला बैनर लगाने की जिम्मेदारी हिंदू युवा वाहिनी ने ले ली है। बैनर में कहा गया है कि गैर हिंदू के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाते हैं जो भी नियम का उल्लंघन करेगा उसे अपने तरीके से निपटा जाएगा। 

बता दें कि उत्तराखंड में मंदिरों के बाहर इस तरह के बैनर लगाने की योजना हिंदू युवा वाहिनी ने की है। अब तक यह बैनर देहरादून के चकराता रोड, घंटाघर, सिनेमा हॉल और प्रेम नगर के मंदिरों के बाहर लगाये गए है। पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मंदिरों से बैनर को हटवा दिया है और FIR दर्ज कर लिया है।

 उत्तराखंड की पुलिस ने कहा है कि लगातार बैनर को हटाने के लिए प्रयास कर रही है। एक मामले का हवाला देते हुए उत्तराखंड कोतवाली पुलिस ने समाचार एजेंसी ANI को बताया है कि देहरादून के घंटाघर में एक मंदिर के बाहर लगे बैनर को हटा दिया गया है। उस बैनर पर एक व्यक्ति का मोबाइल नंबर भी दर्ज था। उस मोबाइल नंबर की छानबीन करके आईपीसी धारा 153 ए के तहत FIR दर्ज कर लिया गया है।

हिंदू युवा वाहिनी उत्तराखंड निकाय के संयोजक गोविंद वाधवा ने कहा है कि गैर हिंदू को मंदिरों में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। अगर कोई गैर हिंदू मंदिरों में प्रवेश करता है तो उसकी पिटाई की जाएगी और उसे पुलिस को सौंप दिया जाएगा। उन्होंने अपनी इस चाल को सही कहा है और कहा है कि यह मंदिर सनातन धर्म का पालन करने वाले लोगों के लिए आस्था और श्रद्धा का स्थान है। ऐसे में गैर हिंदुओं का यहां पर प्रवेश वर्जित है। अन्य धर्मों को मानने वाले लोगों को यहां पर आने की क्या आवश्यकता है? वो मंदिरों में आकर मूर्तियों को तोड़ते हैं या फिर महिलाओं को परेशान करते हैं। यही कारण है कि हमें इस तरह का निर्णय लेना पड़ा। गोविंद माधव कहते हैं कि उन्होंने धर्म को बचाने के लिए इस तरह का कदम उठाया है।

वही इसमें राजनीतिक मोड भी आता हुआ दिखाई दे रहा है। कांग्रेस ने इस मुद्दे को उठाते हुए भाजपा और RSS पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा है कि बीजेपी यह सब सिर्फ धार्मिक ध्रुवीकरण के लिए ऐसा कर रही है। इस तरह के बैनर लगाना गलत है। वही मंदिर के पुजारियों ने कहा कि महे मंदिर में बैनर लगने की उन्हें कोई जानकारी नही थी। लेकिन पुलिस ने बैनर पर छापे मोबाइल नंबर के आधार पर FIR दर्ज किया है। पुलिस ने उत्तराखंड में हिंदू युवा वाहिनी के महासचिव जीतू रामधन पर धार्मिक भावनाओं को भड़काने के आरोप में FIR दर्ज किया है।

यह भी देखे : ऋषिकेश में स्थित महादेव मंदिर जहाँ भगवान शिव ने किया था विषपान

Related posts

Leave a Comment