देवभूमि न्यूज़देवभूमि सामान्य ज्ञानदेवभूमि सौंदर्य

क्या हैं उत्तरकाशी जिले का इतिहास | History of Uttarkashi in Hindi

History of Uttarkashi in Hindi : उत्तराखंड का एक जिला उत्तरकाशी है। इसका इतिहास काफी पुराना है। यह जिला 24 फरवरी 1960 को अस्तित्व में आया। तब देवभूमि उत्तराखंड का नाम उत्तरांचल था और यह उत्तरप्रदेश का हिस्सा था। उत्तरकाशी का पुराना नाम बाड़ाहाट है। उत्तरकाशी जिले का इतिहास प्राचीन काल में महाभारत से जुड़ा है। यह सबसे पुराने समय में ढलान जनजातियों से संबंधित है। विशेष रूप से यहां पर किरात, उत्तरा, कौरस, खासा, तांगना, कुनिंद और प्रतानगनाओ की ढलान जनजातियां जनजातियों का उल्लेख महाभारत में उल्लेखित है। 

उत्तरकाशी भारतीयों के लिए सदियों से महत्वपूर्ण रहा है। यह धार्मिक आस्था का केंद्र रहा है। यहां पर अनेक देशों ने अनेक प्रकार की खोज की है। कहा जाता है कि वैदिक बोली यही की भाषा है। वैदिक बोली और प्रवचन सीखने के लिए दूर दूर से लोग यहां आया करते थे। महाभारत में बताया गया है कि भारत में उत्तरकाशी में एक दर्शन था और स्कंद पुराण के केदारखंड में भी उत्तरकाशी और भागीरथी नदी, जानवी और भील गंगा का भी उल्लेख देखने को मिलता है। 

पहले उत्तरकाशी का यह क्षेत्र व्यापार समृद्ध था। कहा जाता है कि भारत और तिब्बत के बीच व्यापार करने के लिए यह प्राथमिक व्यवसाय क्षेत्र वाला शहर था। शोधकर्ताओं का कहना है कि उत्तरकाशी का पुराना नाम बराह पुरातन त्रिशूल से हुआ था और यह बराह शब्द बराह का एक अवगुण है। 

उत्तरकाशी का संबंध पवार राजाओं से संबंधित रह चुका है। चाल या पवार प्रशासन के प्रवर्तक कनक पाल थे, जो 9वीं शताब्दी में उत्तराखंड आए थे। यह महाराष्ट्र से आए थे। बताया जाता है कि कनक पाल चांदपुर गढ़ी के प्रमुख भानु प्रताप की छोटी लड़की से शादी किए थे। राजा अजय पाल टनकपुर से रिश्तेदार बताए जाते हैं। जिन्होंने 16 वीं शताब्दी में गढ़वाल में मौजूद बराहों सरदारों को कुचरनी और परिवारों की गुणवत्ता को स्थापित की थी। बताया जाता है कि गढ़वाल स्वायत्तशासी राज्य था जिस पर दिल्ली के मुगलों का कोई प्रभाव नहीं था। 17 वी शताब्दी हमें कुछ समय बड़ी को शाह में बदल दिया था। उत्तरकाशी जिले के इतिहास में बताया गया है कि यह इलाका गढ़वाल राज्य द्वारा तय की गई गढ़वाल लाइन का ही एक टुकड़ा था। जिसे बाद में बड़ी को दिया गया। जिसे दिल्ली के सुल्तान द्वारा शाह में बदल दिया गया था। 

1803 में नेपाल के गोरखा ने गांव वालों पर हमला किया और अमर सिंह थापा यहां के राज्यपाल बन गए। 1814 में गोरखा ब्रिटिश शासन से संपर्क में आ गए। 1815 में गढ़वाल पर ब्रिटिश शासन लागू हो गया और इसे टिहरी गढ़वाल के रूप में जाना जाने लगा। 

1950 में भारत जब स्वतंत्रता हासिल कर लिया तो इसे उत्तर प्रदेश के साथ जोड़ दिया गया। बाद में टिहरी गढ़वाल से इसे अलग करके 1960 में इसके बाहरी इलाके को उत्तरकाशी बना दिया गया। यह गंगोत्री और यमुनोत्री दो जलधारा, गंगा (भागीरथी) नदी और यमुना नदी के कारण प्रसिद्ध है।

 उत्तरकाशी देवभूमि उत्तराखंड के उत्तर पश्चिम कोने में 8016 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसके उत्तर में हिमाचल प्रदेश और तिब्बत का क्षेत्र है तथा पूर्व में चमोली जिला है। यहां पर हिमालय के बीहड़ इलाकों के रहस्य फैले हुए हैं। यहीं पर उत्तरकाशी नामक एक प्राचीन स्थान है। इसका नाम समृद्ध सांस्कृतिक विरासत से है। उत्तरकाशी नाम से ही पता चलता है कि यह उत्तरा के काशी के लगभग समान है। वाराणसी और उत्तरकाशी दोनों गंगा (भागीरथी) नदी के तट पर हैं। यह दोनो ही क्षेत्र पवित्रता और उत्तरकाशी के रूप में आज प्रसिद्ध है। उत्तरकाशी में सबसे पवित्र घाटों में से एक है मणिकर्णिका, जो बनारस के भु एक घाट का नाम है। दोनों ही जगह के मंदिर विश्वनाथ को समर्पित है।

उत्तरकाशी की वर्तमान स्थिति –


उत्तराखंड का उत्तरकाशी जिला 1960 में अस्तित्व में आया था। उस समय उत्तराखंड उत्तरांचल के नाम से जाना जाता था और यह उत्तर प्रदेश का ही हिस्सा था। यह 8016 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में हिमालय की पहाड़ियों पर फैला हुआ है। उत्तरकाशी ऋषिकेश से लगभग 155 किलोमीटर की दूरी पर पड़ता है। यह भागीरथी नदी के तट पर बसाया गया है। धार्मिक दृष्टि से यह बेहद महत्वपूर्ण स्थान है।history of Uttarkashi

भारत की जनगणना 2011 के अनुसार इसकी जनसंख्या 239709 है। समुद्र तल से यह 3799 फीट की ऊंचाई पर है। यहां पर कई सारे मंदिर है। यहीं पर प्रसिद्ध विश्वनाथ का मंदिर भी है। यहां का प्राकृतिक सौंदर्य बेहद ही आकर्षक है। पहाड़ों के बीच बहती नदियों का आकर्षक देखते ही बनता है। इसके दूसरी तरफ घने ऊंचे ऊंचे जंगल देखने को मिलते हैं। उत्तरकाशी की सैर के लिए मार्च – अप्रैल और जुलाई – अक्टूबर का समय सर्वोच्च समय माना जाता है।

उत्तरकाशी के प्रसिद्ध स्थल –


 वैसे तो पूरा उत्तराखंड ही पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है। लेकिन उत्तरकाशी में स्थित कुछ पर्यटन स्थल बहुत ही प्रसिद्ध है विशेष कर के हिन्दुओं के किये,  जिसमें सप्त ऋषि कुंड,  शनि मंदिर, भगवान परशुराम मंदिर, काशी विश्वनाथ मंदिर, डोडी ताल,  गंगनानी, बड़कोट, गोमुख प्रमुख रूप से शामिल है। 

काशी विश्वनाथ मंदिर
काशी विश्वनाथ मंदिर

यह भी देखे : आख़िर क्या हैं देहरादून का इतिहास | HISTORY OF DEHRADUN IN HINDI

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Open chat
1
आपकी अपनी वेबसाइट लव देवभूमि में आपका स्वागत हें यहाँ पर आपको हमारी देवभूमि से जुड़े हुए अनेक पोस्ट मिलेंगी जेसे कि लेटेस्ट न्यूज़, सामान्य ज्ञान, जॉब आइडियास आदि. हमसे जुड़ने के लिए हमे यहाँ से मेसेज कर सकते हें