क्या प्राइवेट स्कूल करेगी फीस में कटोती ऑनलाइन क्लासेज की वजह से ?

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने पूरे ‘हिन्दुस्तान’ से कहा कि कोरोना की वजह से पूरे विश्व के जनजीवन पर बहुत गहरा असर पड़ा है, खास कर के लोगों के आर्थिक इस्तथी पर । इसे देखते हुए हाईकोर्ट के निर्देश  अनुसार यह तय किया गया है कि प्राइवेट स्कूल केवल ट्यूशन फीस ले सकते हैं।
चूंकि  भूतकाल में लॉकडाउन के समय से पढ़ाई ऑनलाइन ही चल रही थीं और भविष्य में भी ऑनलाइन स्टडीज पर ज्यादा ध्यान रहेगा ।  इसलिए रमेश पोखरियाल ने कहा की ट्यूशन फीस से ज्यादा शुल्क वसूली का औचित्य भी नहीं है। यदि कोई स्कूल  सरकार के नियामो के ख़िलाफ़ जाती है तो उन स्कूलों पर कड़ी सख्ती दिखाई जाएगी ओर शायद पेनल्टी भी ले सकते हैं।

आगे पढ़े एक बार फिर दून कि ऐश्वर्या ने मिस इंडिया के अंतिम दौर मै बनाई अपनी जगह

प्राइवेट स्कूलों द्वारा छात्रों से पूरी फीस वसूली को सरकार ने गंभीरता से लिया है। उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि प्राइवेट स्कूल किसी सूरत में तय फीस से ज्यादा नहीं ले सकते। कोरोना की वजह से तय की गई ट्यूशन फीस के अलावा यदि कोई स्कूल एक्स्ट्रा फीस लेता है तो उस पर सरकार द्वारा सख्त कार्रवाई की जाएगी।प्राइवेट स्कूलों के संगठन पीपीएसए का कहना है कि ज्यादातर अभिभावकों के कोरोना के चलते अब आर्थिक तंगी वाली हालात नहीं रही हैं। जो कोरोना से प्रभावित है  उसी को फीस में रियायत दी जाएगी।

Related posts

Leave a Comment