उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शहीदों को याद करते हुए, पाँच  सुझाव दिए जाने

devbhoomi news

 उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शहीदों को याद करते हुए, पाँच  सुझाव दिए जाने क्या है ? वो पांच सुझाव

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने उत्तराखंड के शहीदों को याद करते हुए  सरकार को पांच सुझाव भी दिए है। हरीश रावत ने कहा है कि पर्यटन को पूरी तरह प्रतिबंध मुक्त करने और शादी-विवाह, दाह- संस्कार और मंदिरों में पूजा-पाठ पर आंशिक प्रतिबंधों को शिथिल करने की सिफारिश भी किया है। हरीश रावत ने सोशल मीडिया पर दो पोस्ट किए हैं और  दोनों सुझाव को विस्फोट करार भी दिया है।

हरीश रावत ने कोरोना संकट के इस घरी मे राज्य की आर्थिक स्थिति को गति देने का राय भी दिया है।  हरीश रावत ने पांच जो सुझाव दिए हैं उनमें से पहला सुझाव ये है की पर्यटन को प्रतिबंध करने के साथ ही प्रोत्साहन योजना बनाकर इससे जुड़े लोगों को राहत देने के लिए भी कहा है, साथ ही जो लोग तीर्थ यात्रा करने के लिए जा रहे हैं।उनको उत्तराखंड आने के लिए भी प्रोत्साहित भी किया जाए।  

हरीश रावत ने कहा है कि  कुंभ यात्रियों की संख्या में 30 से 40 फीसद से ज्यादा गिरावट नहीं आनी चाहिए। उन्होंने कहा है कि राज्य में सर्किल रेट को घटाकर 50 फीसद पर लाने और नजूल भूमिधरों के नियमितीकरण करने का सभी लोगों को सुझाव दिया जाए। साथ ही  ये भी कहा कि प्रत्येक बिक्री केंद्र पर न्यूनतम 15 फीसद स्थानीय उत्पादों को बिक्री के लिए रखना अनिवार्य किया जाए।  

आगे पढ़े लड़की के साथ दुष्कर्म कर,झूठा शपथ पत्र बनवा कर रचा ली शादी, मारपीट कर हुआ फरार

हरीश रावत ने अपने पांचवें सुझाव में कहां है कि राज्य की अर्थव्यवस्था को उठाने के लिए साहसिक कदम लेने पर जोर दिया है। उन्होंने  ये भी कहा है कि अगर हम ऐसे कदम नहीं उठाते हैं तो 2023 आते-आते अर्थव्यवस्था पूरी तरह बर्बाद हो जाएगी। हमारी खुशियां हमसे बहुत दूर चली जाएगी।  राज्य में गैरसैंण सहित 11 नए जिलों को मंजूरी देकर उनका संचालन करने का सुझाव भी उन्होंने दिया है ।

 

Related posts

Leave a Comment