पिथौरागढ़

पिथौरागढ़: सड़क मार्ग बन्द हो जाने के कारण फंसे लोगों को निकाले जाने के लिए जिलाधिकारी ने की शासन से एक हैलीकॉप्टर की मांग

पिथौरागढ़-
रविवार को जिलाधिकारी आनन्द स्वरूप द्वारा जिला आपदा परिचालन केन्द्र से जनपद के सभी तहसीलों व विभागों से लगातार संपर्क कर जानकारी लेते हुए अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए हैं।

जिलाधिकारी द्वारा जिले में बंद सड़कों को तत्काल खोले जाने के लिए सड़क निर्माण विभाग को आवश्यक निर्देश दिए गए। जिसके अनुरूप सड़क निर्माण विभागों के द्वारा पूरे दिन बंद सड़कों को खोले जाने का कार्य जारी रखा।

रविवार की सायं तक जिले में कुल 56 बन्द सड़क मार्गों में से 7 सड़कों को यातायात के लिए खोला गया है। एन एच 125 घाट-पिथौरागढ़ मार्ग जो विभिन्न स्थानों में बंद हो गया है उसे खोले जाने का कार्य लगातार जारी है।

रविवार को जिलाधिकारी द्वारा जिले में आपदा की घटना अथवा सड़क मार्ग बन्द हो जाने के कारण फंसे लोगों को निकाले जाने के लिए शासन से एक हैलीकॉप्टर जिले में भेजे जाने को लेकर मांग पत्र प्रेषित करने के अतिरिक्त शासन में वार्ता भी की गई। जिलाधिकारी ने जौलजीबी-थल मोटर मार्ग जो विभिन्न स्थानों में अवरुद्ध हो गया है,उसे शीघ्र खोले जाने को लेकर उपजिलाधिकारी धारचूला एवं बीआरओ के कमांडर को दो दिन के भीतर उक्त मार्ग का स्थलीय निरीक्षण कर सड़क मार्ग को खोले जाने हेतु त्वरित निर्णय लेते हुए कृत कार्यवाही से अवगत कराने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी ने तहसील धारचूला के कंज्योति में दारमा घाटी को जोड़ने वाले क्षतिग्रस्त वैली ब्रिज के स्थान पर तुरन्त ही नया वैलीब्रिज स्थापित करने के निर्देश बीआरओ को दिए। जिलाधिकारी ने दारमा घाटी के चल एवं सेला में क्षतिग्रस्त ट्रॉली के स्थान पर शीघ्र ही नई ट्रॉली लगाने के निर्देश मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग अल्मोड़ा को दिए।

साथ ही जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिए हैं कि मानसून काल के मद्देनजर 4 अतिरिक्त ट्रॉली भी जिले में वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर रखी जाय। रविवार को जिलाधिकारी द्वारा दारमा घाटी में प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिभाग करने गए विभिन्न विभागों के अधिकारियों से भी वार्ता करते हुए उनके लिए वहॉ रहने एवं भोजन की भी व्यवस्था करवाई गई तथा क्षेत्र के गांवों की भी जानकारी ली गई।

जिलाधिकारी ने सभी उपजिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि क्षेत्र में किसी भी प्रकार की आपदा की घटना होने पर तत्काल रिस्पांस करते हुए राहत एवं बचाव कार्य कराए जाय।
रविवार को एनडीआरएफ एसडीआरएफ, पुलिस एवं राजस्व पुलिस, द्वारा शनिवार को देर सायं जौलजीबी में गोरी नदी में पैर फिसलने से नदी में बहे युवक महेश राम पुत्र दीवानी राम उम्र 23 वर्ष की खोजबीन का कार्य जारी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!