पिथौरागढ़

पिथौरागढ़: प्राकृतिक घटनाओं से निपटने की तैयारियां के सम्बन्ध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की गई समीक्षा

पिथौरागढ़

मानसून काल के मद्देनजर राज्य के सभी जनपदों में प्राकृतिक घटनाओं से निपटने को लेकर की गई तैयारियां के सम्बन्ध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जनपदवार समीक्षा करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा आपदा की घटनाओं से निपटने एवं घटना के तुरंत बाद राहत व बचाव कार्य करने के लिए सभी अधिकारियों को हरवक्त तैयार रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आपदा की घटना होने पर तत्काल रिस्पॉन्स होना चाहिए। आपदा राहत एवं बचाव कार्यों को तत्काल प्रारम्भ कराया जाय।

आगामी दो मांह में आपदा को देखते हुए आपसी समन्वय,सूझबूझ के साथ कार्य करें। कहा कि सभी लोग एक परिवार भाव के साथ मिलकर कार्य करते हुए इस राज्य के विकास के लिए कार्य करें। उन्होंने कहा कि प्रत्येक अधिकारी व कार्मिक से उसकी क्षमता के अनुरूप कार्य लिया जाएगा।
वीसी में मुख्य सचिव एसएस संधू ने कहा कि आपदा के दौरान सभी अधिकारी अलर्ट रहकर कार्य करें। आपदा की घटना होने पर त्वरित निर्णय लेते हुए राहत एवं बचाव कार्य सुचारू होने चाहिए। आपदा के दौरान जनता को लगे कि शासन एवं प्रशासन इस आपदा के दौरान उनके साथ है। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी संवेदनशील रहकर कार्य करें। आपदा की घटनाएं होने पर कम से कम समय पर घटना स्थल पर पंहुचकर राहत एवं बचाव कार्य सुचारू कराए जाय।

जनपद पिथौरागढ़ में मानसून काल के मद्देनजर की गई पूर्व तैयारियां एवं गत मांह जिले में हुई भारी वर्षा के कारण हुए नुकसान तथा कराए गए राहत एवं बचाव कार्यों के बारे में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलाधिकारी आनन्द स्वरूप बताया कि विगत मांह में हुई भारी वर्षा से जिले के तहसील धारचूला अंतर्गत तीनों घाटियां दारमा, ब्यास व चौदास क्षेत्र में क्षति हुई थी,जिसमें बीआरओ के दो मोटर पुल समेत 21 छोटी पैदल पुलिया व संपर्क मार्ग आदि क्षतिग्रस्त हो गए थे। बीआरओ द्वारा आज ही एक मोटर पुल के स्थान पर वैलीब्रिज तैयार कर यातायात सुचारू कर लिया गया है। दूसरे पुल का भी कार्य गतिमान है शीघ्र ही वह भी तैयार हो जाएगा। इसके अतिरिक्त 21 छोटी पैदल पुलिया जो क्षतिग्रस्त हो गई थी उनमें से 17 स्थानों में लकड़ी के पुल स्थापित कर आवागमन सुचारू कर लिया गया है।जिलाधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा क्षेत्र में हुई उक्त घटना के उपरांत तत्काल 23 जून 2021 को ही धारचूला में एक हैलीकॉप्टर भेजा गया जिसके माध्यम से वर्तमान तक जिले के इन विभिन्न क्षेत्रों से कुल 525 व्यक्तियों जिसमें बीमार,बुजुर्ग,गर्भवती को रेस्क्यू कर धारचूला व अन्य स्थानों तक लाया गया। इसके अतिरिक्त हैलीकॉप्टर के माध्यम से उच्च हिमालयी क्षेत्रों में तैनात सैन्य बलों के लिए खाद्यान्न सामग्री भी पंहुचाई गई।

हैलीकॉप्टर के माध्यम से ऊपरी क्षेत्रों में विभिन्न विभागों के अधिकारियों, कर्मचारियों,स्वास्थ्य टीम को भी पंहुचाया गया,जिनके द्वारा क्षेत्र में पुनर्निर्माण के कार्य कराए जाने थे,उन्हें भी सामग्री के साथ पंहुचाया गया। हैली सेवा से जिले को काफी लाभ मिल रहा है। जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में वर्तमान तक 95 बंद सड़क मार्गो में से 79 सड़क मार्गों को आवागमन के लिए खोल दिया गया है। जिले में विभिन्न सड़क मार्गो में कुल 87 जेसीबी व अन्य मशीनें रखी गई है। जिलाधिकारी ने बताया कि तहसील धारचूला के दारमा घाटी के लिए निर्मित बंद सड़क मार्ग को खोले जाने को लेकर केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग द्वारा कार्य किया जा रहा है,सड़क मार्ग खोले जाने तक वैकल्पिक पैदल मार्ग भी बना दिया गया है। उच्च हिमालयी क्षेत्र के सभी गांवों में माह सितंबर तक का खाद्यान्न का वितरण हो गया है।

जिलाधिकारी ने बताया कि विगत दिनों हुई तेज वर्षा से सीमांत क्षेत्र के कुल आठ गांवों में पेयजल लाइन ध्वस्त हो गई थी इन सभी गांवों में वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में पेयजल की आपूर्ति करा दी गई है। जिले में मानसून काल के दौरान जिले में 36 सरकारी 10 निजी कुल 46 एम्बुलेंस को विभिन्न स्थानों में रखा गया है,ताकि आवश्यकता पड़ने पर तत्काल मरीज को चिकित्सालय तक लाया जा सके*। जिलाधिकारी ने बताया कि संचार सुविधा के मद्देनजर जिले में 70 सेटेलाईट फोन को विभिन्न गांवों,थानों,तहसीलों आदि स्थानों में एक्टिव मोड़ में रखा गया है। जिले में आपदा राहत कार्यों के लिए एनडीआरएफ की 32 तथा एसडीआरएफ की 11 जवानों की टीम जिले में तैनात है।

जिलाधिकारी ने शासन से मुनस्यारी क्षेत्र के लिए एसडीआरएफ की पांच जवानों की टीम तैनात करने की भी मांग रखी गई। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में सभी प्रभावितों को नुकसान का मुआवजा का वितरण कर लिया गया है। सात पुनर्वास के प्रकरणों पर भी धनराशि का वितरण कर लिया गया है, आठ प्रकरणों की धनराशि जिले में प्राप्त हो गई है शीघ्र ही वितरण कर लिया जाएगा।
वीसी में जनपद से पुलिस अधीक्षक सुखबीर सिंह,मुख्य विकास अधिकारी अनुराधा पाल,अपर जिलाधिकारी फिंचा राम चौहान,मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ एच सी पंत एवं अन्य अधिकारी शामिल थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!