उत्तराखंड में कैबिनेट बैठक में लिया गया अहम फैसले अब नहीं काटे जाएंगे,कर्मचारियों के एक दिन का वेतन

उत्तराखंड में कैबिनेट के बैठक में बहुत सारे महत्वपूर्ण फैसले लिए गए।उसके बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के कहने पर मंत्रिमंडल ने त्योहारी सीजन में उत्तराखंड के ढाई लाख से भी ज्यादा कर्मचारियों को सबसे बड़ी राहत दी है।जानकारी के लिए आपको बता दें कि अक्टूबर महीने समेत आगे के महीने में भी कर्मचारियों के वेतन में एक दिन की भी कटौती नहीं की जाएगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण सभी कर्मचारियों के महीने के 1 दिन के वेतन में कटौती की जा रही थी। बताया जा रहा है कि मंत्रिमंडल ने मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विधायकों, विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के साथ आइएएस, आइपीएस, आइएफएस इन सभी के वेतन मे कटौती जारी रखी जाएगी।

जानकारी के लिए बता दें कि इस कैबिनेट बैठक का आयोजन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में किया गया था। इस बैठक मे 18 प्रस्ताव रखे गए है। जिनमें से 17 प्रस्तावों को मंजूरी भी मिल गई है,उसके बाद जब बैठक खत्म हो गई तो कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने इस प्रस्ताव के बारे मे विस्तार से जानकारी दिया।

दिल्ली से अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने आया युवक की मौत

कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने बताया कि एक प्रस्ताव पर कमेटी बनाई गई है। वहीं, हिमालय गढ़वाल विश्वविद्यालय 2016 संशोधन प्रस्ताव पर मुहर लगी। विवि का नाम अटल बिहारी वाजपेयी हिमालयन गढ़वाल विश्वविद्यालय दिया गया।

चलिए जानते हैं, कैबिनेट के अन्य फैसले

  • आबकारी विभाग में मदिरा की बिक्री के लिए ट्रेक एंड ट्रेस प्रणाली होगी शुरू।
  • उद्योग विभाग की सेवा नियमावली में संशोधन किया जाएगा।
  • उत्तराखंड पुलिस आर मोहरीर संशोधन नियमावली संशोधन 2020 में संशोधन किया गया।
  • उत्तराखंड में नागरिक सुरक्षा चयन नियमावली में संशोधन किया जाएगा।
  • राजकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयो को अनुदान देने पर भी कैबिनेट की बैठक में चर्चा किया गया।
  • जिस पर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बनाई गई कमेटी।
  • उत्तराखंड नागरिक सुरक्षा अधीनस्थ चयन आयोग नियमावली में संशोधन।
  • राजकीय महाविद्यालय में छात्र निधि का समुचित उपयोग और प्रबंधन के लिए बनाई गयी नियमावली।
  • पिरुल नीति के तहत पिरुल इकट्ठा करने पर पहले एक रुपए प्रति किलो का दाम तय है, जिसको बढ़ाकर अब ₹2 कर दिया गया है।
  • 1983 और उससे पहले से कब्जे धारी को 2004 के तहत पढ़ने वाली सर्किल रेट का मात्र 5 फीसद ही देना होगा।

रुद्रपुर मे भाजपा समर्थित पार्षद की गोली मारकर  की गई हत्या,जाने क्या है पुरा मामला

Related posts

Leave a Comment