देहरादून में शिक्षकों के लिए आई बड़ी चुनौती, बच्चों को पढ़ाना होगा ऑनलाइन और ऑफलाइन

देहरादून में शिक्षकों के लिए आई बड़ी चुनौती, बच्चों को पढ़ाना होगा ऑनलाइन और ऑफलाइन

देहरादून मे कोरोना के कारण सभी स्कूल बंद कर दिया गया था,लेकिन अनलॉक के तहत सभी स्कूल और ऑफिसों को खोला जा रहा है। स्कूल बंद होने के कारण बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन मोड पर हो रही थी। लेकिन अब बच्चों की पढ़ाई ड्युल मोड ऑनलाइन और ऑफलाइन होनी है। जिसमें न सिर्फ तकनीकी प्रॉब्लम होगी बल्कि और बहुत सारी परेशानियां हो सकती है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि पहले दिन स्कूल खुलने पर बच्चों की उपस्थिति स्कूल में बहुत कम दिखाई दिया। जिससे अंदाज लगाया जा सकता हैं, कि अभी भी अभिभावक अपने बच्चों को कोरोना के कारण स्कूल नहीं भेजना चाह रहे हैं।

सभी विद्यार्थी स्कूल खुलने पर भी ऑनलाइन पढ़ाई करना चाहते हैं। स्कूल खुलने पर जब बच्चों के अभिभावकों से टीचर ने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए कहा तो बच्चों के अभिभावक ने ज्यादातर अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए ऑनलाइन का ही विकल्प चुना।
आपको बता दे की अब सभी स्कूलों को ड्युल मोड पर ही पढ़ाई की व्यवस्था करनी है।

15 साल का विकास ने नाचनी -बांसबगड़ सङक पर स्वयं भरे दस से ज्यादा  गड्ढे,समाज को दिखाया आईना

जैसा कि हम सभी देख रहे हैं। कुछ बच्चे स्कूल में आकर पढ़ाई करना चाहते हैं और कुछ बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई करना चाहते हैं।ऐसे में सभी स्कूल के पास ऑनलाइन और ऑफलाइन पढ़ाई करवाने की व्यवस्था उपलब्ध नहीं होती है,लेकिन ऐसे में सभी शिक्षक को ऑनलाइन और ऑफलाइन क्लास के बीच तालमेल बैठाना होगा। ताकि ऑनलाइन और ऑफलाइन पढ़ने वाले बच्चों को कोई समस्या ना हो।

आपको बता दें कि प्राइवेट स्कूल में तो बच्चों को ऑनलाइन और ऑफलाइन पढ़ने की सुविधा मिल भी सकती है, लेकिन सरकारी स्कूलों में लाइव क्लास एक बड़ी चुनौती होती है। सरकारी स्कूल के शिक्षकों को सबसे पहले स्कूल में उपस्थित बच्चों को पढ़ाना पड़ रहा है। उसके बाद स्कूल में नहीं आने वाले बच्चों के लिए वीडियो तैयार कर रहे हैं। ऐसे में शिक्षकों को बहुत बङी चुनौतीयो का सामना करना पड़ रहा है।

स्मार्ट सिटी के 13वीं सिटी लेवल एडवाइजरी फोरम की बैठक में महापौर और राजपुर के विधायक ने कहा

मीनाक्षी जैन ने कहा कि बच्चों को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों एक साथ पढ़ाना शिक्षकों के लिए बहुत बड़ी मुश्किल का काम है। इसमें सभी शिक्षकों को कई व्यवहारिक और कई तकनीकी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। इससे अच्छा तो यही रहेगा कि बच्चे स्कूल में आकर पढ़ाई करें। जिससे बच्चे और शिक्षकों को किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

Related posts

Leave a Comment